Powered by Blogger.

Follow by Email

RSS

जुनूने-शौक़ अब भी कम नहीं है

जुनूने-शौक़ अब भी कम नहीं है.
मगर वो आज भी बरहम नहीं है.

बहुत मुश्किल है दुनिया का सवंरना 
तेरी जुल्फों का पेंचो-ख़म नहीं है.

बहुत कुछ और भी है इस जहां में 
ये दुनिया महज ग़म ही ग़म  नहीं है.

तकाजे क्यूं करूं पैहम न साक़ी
किसे यां फिकरे-बेशो-कम नहीं है.

मेरी बरबादियों का हमनशीनो
तुम्हें क्या खुद मुझे भी ग़म नहीं है.

अभी बज्मे-तरब से क्या उठूं मैं 
अभी तो आँख भी पुरनम नहीं है.

'मजाज़' एक बादाकश तो है यकीनन
जो हम सुनते थे वो आलम नहीं है.

------मजाज़ लखनवी 

  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • RSS

1 comments:

Ashok Khachar said...

bahut hi khoobsoorat aur shandaar
mzaz ki shayri mere dil ki dhadkon se jyada krib hai....bhot khub

Post a Comment